e-rupi : ई-रूपी क्या है!आरबीआई ने लंच की ई-रूपी, ऐसे करे यूज

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने देश की पहली डिजिटल करन्सी यानी ई-रूपी (e-rupi) लंच कर दिया है। इससे शुरुआत मे देश के चार सबसे बड़े बैंकों – स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई), आईसीआईसीआई बैंक, यस बैंकऔर आइडीएफसी बैंक ने  शुरू किया। इन बैंकों द्वारा पहले चरण मे चार शहरों मे दिल्ली, मुंबई, बंगलुरु और भुवनेश्वर मे ई-रूपी (e-rupi) को शुरू किया है। अगले चरण मे ओर चार बैंक – बैंक ऑफ Baroda, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, एचडीफसीबैंक, और कोटक महिंद्रा बैंक को ई-रुपी (e-rupi) से पैसे का लेनदेन के लिए अधिकार मिल जायेगी।   तो चलिए जानते है ई-रूपी क्या है, इसका इस्तेमाल करने का तरीके क्या है और इसके फायदे क्या है।

ई-रूपी(e-rupi) क्या है?

ई-रूपी डिजिटल रूप मे डिजिटल करन्सी वॉलेट (Money पर्स ) है यानी बिल्कुल आपके जेब के नोटों और सिक्के की तरह , फर्क सिर्फ इतना की वे नोटों और सिक्के डिजिटल रूप मे होगी। बाजार से कोई भी समान लेने के लिए आपको कागज के नोट या सिक्के ले जाने की जरूरत नहीं। 1, 2, 5, 10, 20, 50, 100, 200, 500 और 2000 रुपये तक के हर तरह के नोट या सिक्के आपके मोबाईल के ई-रूपी (e-rupi)  मे डिजिटल रूप मे रहेंगे और उससे आप बाजार से कुछ भी समान ले सकते है, जैसे -मोबाईल रिचार्ज, किसी भी बिल का पेमेंट भुगतान, बाजार से हर तरह का सामान खरीद सकते है। सबसे बड़ी बात यह है की ई -रूपी (e-rupi) से आप किसी को भी डिजिटल रूप से पैसे भी भेज सकते है, इसके लिए किसी बैंक अकाउंट या पेमेंट ऐप की जरूरत नहीं न ही आपको किसी बैंक जाने की जरूरत है। क्योंकि ये UPI पेमेंट माध्यम से बिल्कुल अलग तरीके का सिस्टम है, जो SMS या QR कोड की मदद से काम करेगी और इसके लिए कोई इंटरनेट की भी जरूरत नहीं है।

ई-रूपी(e-rupi)का ऐसे करे इस्तेमाल

  • जैसे की ई-रूपी का शुरुआत देश के चार बड़े शहरों दिल्ली, मुंबई, बंगलुरु और भुवनेश्वर के चार बैंकों स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई), आईसीआईसीआई बैंक, यस बैंकऔर आइडीएफसी बैंक ने शुरू किया है , इसलिए बर्तमान मे इन शहरों मे इन बैंकों के ग्राहक ही ई-रूपी(E-Rupi) का इस्तेमाल कर पायेगा।
  • सबसे पहले इन बैंकों की तरफ से अपने रेजिस्टर्ड मोबाईल नंबर पर ई-रूपी (e-rupi) ऐप के लिए मैसेज या ई-मेल आइडी पर इन्वाइट मेल भेजा जायेगा। उसके बाद ही यूजर्स ई-रूपी(e-rupi) ऐप को डाउनलोड कर पायेगा।
  • ई -रूपी (e-rupi) ऐप को अपने मोबाईल पर डाउनलोड करके इंस्टॉल कर लेना है। इसके बाद वेरीफिकेशन प्रक्रिया को पूरा करना होगा।
  • इसके लिए आपको बैंक अकाउंट से लिंक रेजिस्टर्ड मोबाईल नंबर को जरूरत पड़ेगी।
  • इस तरह आप ई-रूपी (e-rupi) डिजिटल वॉलेट बनाकर , इसका सही इस्तेमाल कर पायेंगे।

Also Read :

1.Shavitribai Phule : भारत की पहली महिला शिक्षिका, समाज सुधारिका और मराठी कवीयत्री।

2.weight loss supplement Slimo Capsules : 10 दिन मे 5 kg वजन कैसे घटाए !

e-rupi से क्या फायदे है?

  • ई-रूपी(e-rupi) से सुरक्षित लेनदेन

जैसे की यूपीआई (UPI) मे पेमेंट करने के लिए आपको थर्ड पार्टी ऐप की जरूरत पड़ती है , लेकिन ई-रूपी(e-rupi) डिजिटल पेमेंट मे थर्ड पार्टी ऐप की जरूरत नहीं होगी। ई-रूपी(e-rupi) ऐप से पेमेंट करने से सबसे बड़ा फायदा है की अगर गलती से पैसे का लेन देन गलत अकाउंट पर चला गया तो इसका आसानी से वापस किया जा सकता है। परंतु थर्ड पार्टी ऐप जैसे की फोन पे या गूगल पे मे अगर गलती से पैसे का गलत अकाउंट मे चला जाता है तो इसका वापस करना नामुमकिन है और इसका जिम्मेदार थर्ड Party यानी Phone Pay या Google Pay का जिम्मेदारी नहीं होगी।

  • ऑफलाइन तरीके से डिजिटल काम किया जा सकेगा

ज्यादातर डिजिटल करन्सी का लेनदेन online तरीके से होता है। लेकिन ई-रूपी (E-Rupi) app के माध्यम से पैसे का लेनदेन आप ऑफलाइन मोड मे डिजिटल तरीके मे आसानी से कर पायेंगे। ई-रूपी (e-rupi) के लेनदेन मे कोई इंटरनेट या एंड्रॉयड फोन की भी जरूरत नहीं है, आप आसानी से साधारण मोबाईल फोन से पैसे का लेनदेन कर पायेंगे।

  • फटी नोट, नकली नोटों की समस्या से छुटकारा

आज के दिन मे रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया नकली नोटों से काफी परेशान है। भारत मे नकली नोटों का कारोबार बहुत बड़ा है । ई-रूपी(e-rupi) के माध्यम से डिजिटल मे पैसे की लेनदेन होने से नकली नोटों से छुटकारा मिल जायेगा । डिजिटल तरीके से पैसे की लेनदेन होने से कागजी नोटों का फटने का समस्या ही खत्म हो जायेगी ।

  • समय का बचत

जैसे की साधारणतः देखा जाता है की बैंकों मे, एटीएम मशीन के सामने या ग्राहक सेवा केंद्र मे बैंक ग्राहकों का लंबी लाइन लगी रहती है। ई-रूपी (E-Rupi) के माध्यम से पैसे का लेनदेन होने से लोगों का समय मे काफी  बचत होगी । ग्राहकों को इस तरह बैंकों, एटीएम या ग्राहक सेवा केंद्र के सामने लंबी लाइन लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

  • संक्रमण बीमारियों से छुटकारा मिलेगी

जैसे की कोरोना काल मे देखा गया लोग एक दूसरे के संपर्क मे आने से परहेज कर रहे थे ताकि कोरोना बीमारी का संक्रमण ना हो। ई-रूपी (e-rupi) से पैसे का लेनदेन होने से आपको ना तो कोई रसीद देना, ना कोई कार्ड या ना कोई fingerprint देना परेगा। आप ई-रूपी के माध्यम से दूर से ही पैसे का लेनदेन कर सकेंगे , जिससे आप संक्रमण से दूर रहेंगे।

Conclusion : नमस्कार दोस्तों! मैं आज इस लेख के माध्यम से आपको भारत सरकार की डिजिटल करन्सी ई-रूपी (e-rupi) के बारे मे जानकारी सांझा किया। ई-रूपी(e-rupi)  क्या है, इसे कैसे इस्तेमाल किया जाता है और इसके लाभ के बारे मे बताया हूँ ओर भी कुछ जानकारी के लिए हमारे दूसरे लेख को पड़े एवं कुछ नया जानकारी के लिए कमेन्ट बॉक्स मे कमेन्ट करे।

FAQs. 

प्रश्न: ई-रूपी(e-rupi) क्या है?

उत्तर- ई-रूपी(e-rupi) एक cashless एवं कान्टैक्ट less  डिजिटल करन्सी है यानी इलेक्ट्रॉनिक रुपये है । साधारण भाषा मे बोले यह एक डिजिटल पर्स (Digital Walled) है। इसमे  1, 2, 5, 10, 20, 50, 100, 200, 500, 2000 रुपये के सारे नोट होंगे। यह बिना इंटरनेट के  SMS या QR कोड से काम करेगा।

 

 

 

2 thoughts on “e-rupi : ई-रूपी क्या है!आरबीआई ने लंच की ई-रूपी, ऐसे करे यूज”

Leave a Comment